छोटे बच्चो मैं हेल्थ बिमा होना क्यों जरुरी हैं | Health insurance in hindi

आपने बच्चों के लिए स्वास्थ्य बीमा (Health insurance in hindi) लेने के बारे में शायद ही कभी सुना होगा क्योंकि आपको लगता है कि बड़ी बीमारी केवल बुढ़ापे में ही हो सकती है। लेकिन आपके लिए यह जानना महत्वपूर्ण है कि माता-पिता अक्सर अपने बच्चे के खर्च को देखकर असहज महसूस कर सकते हैं, जब एक नवजात शिशु को भी कोई बड़ी बीमारी हो जाती है। लेकिन अगर ऐसे समय में बच्चे का स्वास्थ्य बीमा निकाला होता है तो यह बहुत फायदेमंद होता है।आइए इस लेख में जानें कि छोटे बच्चों में स्वास्थ्य बीमा लेना क्यों जरूरी है।

स्वास्थ्य बीमा क्या है?

स्वास्थ्य बीमा (Health insurance in hindi) नाम का अर्थ उसके नाम में ही छिपा है स्वास्थ्य का अर्थ स्वास्थ्य और बीमा का अर्थ सुरक्षा है। स्वास्थ्य की देखभाल के लिए जो सुरक्षा निकाली जाती है वह है स्वास्थ्य बीमा। स्वास्थ्य बीमा एक प्रकार का बीमा है जो अस्पताल में भर्ती होने की लागत, दवाओं की लागत, जांच की लागत के साथ-साथ डॉक्टर के परीक्षा शुल्क को कवर करता है इस वजह से जो व्यक्ति बीमार है उसको वित्तीय नुकसान नहीं होता हो।

स्वास्थ्य बीमा लेने वाला व्यक्ति और बीमा कंपनी के बीच एक प्रकार का समझौता है जिसमें यदि व्यक्ति या उसका परिवार बीमार पड़ता है, तो कंपनी बीमारी के लिए भुगतान किए गए बीमा के समान राशि का भुगतान करती है लेकिन कंपनी द्वारा निर्धारित राशि ऐसे बीमा के लिए उस व्यक्ति को प्रत्येक वर्ष प्रीमियम के रूप में भुगतान किया जाता है। वह राशि वापसी योग्य नहीं है क्योंकि यह एक प्रकार का अनुबंध है।

छोटे बच्चों के लिए स्वास्थ्य बीमा कराना क्यों जरूरी है?

माता-पिता को लगता है कि उनका बच्चा ठीक है और उसे कोई नुकसान नहीं होगा। लेकिन ऐसा सोचना सही नहीं है क्योंकि यह अनुमान लगाना संभव नहीं है कि किस व्यक्ति को कौन सी बीमारी हो जाएगी और इसलिए बच्चों के लिए स्वास्थ्य बीमा (Health insurance in hindi) लेना बहुत जरूरी है। छोटे बच्चों में स्वास्थ्य बीमा प्राप्त करना निम्नलिखित कारणों से महत्वपूर्ण है:

  • जन्मजात रोग होना

नवजात शिशुओं को ऐसे समय में प्रमुख उपचार से गुजरना पड़ सकता है जब उनमें जन्म दोष हो सकता है। इस तरह के उपचार की लागत बहुत अधिक है और अक्सर ऐसे नवजात शिशुओं को भी सर्जरी की आवश्यकता होती है, इसलिए लागत बहुत अधिक होती है इसलिए नवजात शिशुओं के लिए स्वास्थ्य बीमा लिया होगा तो हमेशा फायदेमंद रहता हैं

  • रोग प्रतिरोधक क्षमता की कमी

बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी कम होती है इसलिए उन्हें सर्दी, खांसी, बुखार, दस्त और अन्य बीमारियों का खतरा होता है

  • खेलते समय चोट लगना

किसी बच्चे के घायल होने पर या खेलते समय समाज नहीं होने के कारन चोट लग सकती हैं और उसके इलाज का खर्च बढ़ सकता है।

  • बार-बार होने वाली बीमारी

छोटे बच्चो के खाने की आदते बहुत बदली हुयी हैं और उनके खाने की हैबिट्स के कारन वो बार बार बीमार पद सकते हैं.

उपरोक्त सभी के अलावा, यह भविष्यवाणी करना संभव नहीं है कि अन्य बीमारियां कब होंगी।जैसा कि हमने देखा है, 2020 में कोरोना नामक एक महामारी थी जिसमें कई लोगों की जान चली गई थी और अस्पताल में भर्ती होने की लागत बहुत अधिक थी, इसलिए यह आपके लिए यह समझना महत्वपूर्ण है।यदि आपके पास किसी भी बीमारी के लिए स्वास्थ्य बीमा है, तो स्वास्थ्य बीमा लेना बेहतर है ताकि वित्तीय नियोजन बिगड़ न जाए।

क्या बच्चों में स्वास्थ्य बीमा लेने से बचना संभव है?

जब मनुष्य का जन्म होता है तो वह भविष्यवाणी नहीं कर सकता कि क्या होगा। इसलिए, यह सुनिश्चित करने के लिए निम्नलिखित उपाय करना महत्वपूर्ण है कि यदि माता-पिता अपने बच्चे की उचित देखभाल करते हैं तो बच्चे के स्वास्थ्य को स्वस्थ रखा जा सकता है।

  • उचित आहार लें

यदि बच्चों को उचित आहार दिया जाए, तो उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता नियमित होगी, जिससे उनके बीमार होने की संभावना कम होगी।यह बच्चे को स्वस्थ रखने में सहायक हो सकता है।

  • नियमित रूप से व्यायाम करने की आदत डालें

यदि माता-पिता अपने बच्चे को स्वस्थ रखना चाहते हैं, तो उन्हें नियमित रूप से व्यायाम करने की आदत डालनी होगी ताकि उनके बच्चे स्वस्थ रहें और बीमारी से बचें।

  • बाहर से आने के समय हाथ-पैर धोएं

छोटे बच्चों के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वे बाहर खेलते समय अपने हाथ और पैर धोने की आदत डालें, क्योंकि उनके हाथों में कीटाणु उनके पेट में प्रवेश कर जाते हैं और संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है, क्योंकि बच्चे बाहर से आने पर हाथ नहीं धोते हैं हाथ धोने से बच्चो को होने वाले संक्रमण को रोका जा सकता है

छोटे बच्चों में कौन सी बीमारियाँ अधिक होती हैं?

सबसे बड़ी गलतफहमी यह है कि छोटे बच्चों को बड़ी बीमारी नहीं होती है, इसलिए माता-पिता के लिए अपने बच्चों के स्वास्थ्य की निगरानी करना बहुत जरूरी है। छोटे बच्चों में निम्न प्रकार की बीमारियां आम हैं:

  • न्यूमोनिया

सर्दी अक्सर निमोनिया में बदल जाती है क्योंकि वातावरण में बदलाव के साथ बच्चे को सर्दी और खांसी हो सकती हैं। माता-पिता अक्सर घर पर खासी का इलाज करते हैं, अगर खासी काम नहीं हुयी तो बच्चों में निमोनिया का खतरा बढ़ जाता है। यदि किसी बच्चे को निमोनिया है, तो उसे अस्पताल में भर्ती होना चाहिए।

  • दस्त

बच्चों को दस्त होने का खतरा अधिक होता है क्योंकि वे खेलते समय किसी भी घरेलू सामान को छूते हैं और भोजन के लिए इसी हाथ का उपयोग करते हैं। बच्चों के हाथों को बार-बार साबुन से साफ करना बहुत महत्वपूर्ण है। ऐसा न करने से संक्रमण दस्त हो सकता है और इसमें छोटे बच्चे बहुत सुस्त हो जाते हैं इसलिए उन्हें अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता हो सकती है।

  • बालदमा

वातावरण में लगातार हो रहे बदलाव के कारण छोटे बच्चों में निमोनिया के मामले बढ़ गए हैं। माता-पिता भी डरते हैं जब शिशुओं को रात में और केवल सुबह में सांस लेने में कठिनाई होती है, और समस्या गंभीर या तेज होने पर उन्हें अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता हो सकती है।

  • डेंगू

डेंगू एक बीमार मरीज से स्वस्थ मरीज में मच्छरों से फैलता है। इस रोग के रोगियों के रक्त में प्लेटलेट्स कम होते हैं यदि प्लेटलेट्स एक लाख से कम हैं तो इस रोगी को अस्पताल में भर्ती किया जा सकता है क्योंकि यह रोग खतरनाक हो सकता है।

  • टायफॉइड

वर्तमान में टाइफाइड का संक्रमण कम हो गया है क्योंकि हम केवल स्वच्छ पेयजल पीते हैं और टीकाकरण उपलब्ध होने के कारण टाइफाइड होने की समस्या बहुत कम होती है। लक्षणों में तेज बुखार, भूख न लगना और पेट दर्द शामिल हैं। टाइफाइड का अक्सर ओपीडी से इलाज किया जाता है लेकिन लक्षण गंभीर होने पर अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता हो सकती है।

  • मूत्र मार्ग में संक्रमण

लड़कों की अपेक्षा लड़कियों में यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन के मामले अधिक होते हैं।इस रोग में मूत्राशय में सूजन और संक्रमण हो जाता है। संक्रमण किडनी में फैल सकता है। इसलिए अगर मरीज को अस्पताल में भर्ती कर समय पर इलाज किया जाए तो बीमारी जल्दी ठीक हो जाएगी। लक्षणों में तेज बुखार और ठंड लगना शामिल हैं

  • हर्निया

हर्निया छोटे बच्चों में भी अधिक होता है। उन्हें जन्म से हर्निया होने की अधिक संभावना होती है, लेकिन जैसे-जैसे बच्चे बड़े होते जाते हैं, यह समझा जाता है कि हर्निया एक ऐसी बीमारी है जिसमें आंते इंग्वाइनल कैनाल से निकलती है। अगर हर्निया उस कैनाल मैं फास जाता हैं, यह एक प्रकार की आपात स्थिति है, ऐसे में आपातकालीन ऑपरेशन की आवश्यकता हो सकती है और बच्चे को अस्पताल में भर्ती करने की आवश्यकता हो सकती है।

  • हाइड्रोसील

कुछ शिशुओं में, लिंग के नीचे की थैली में जन्मजात सूजन होती है। जो सूजन आ जाती है उसे हाइड्रोसील कहते हैं। इस बीमारी में बच्चे के अंडाशय के आसपास पानी जमा हो जाता है। कुछ बच्चों में, सूजन समय के साथ कम हो सकती है। लेकिन अगर सूजन कम नहीं होती है, तो सर्जरी की जरूरत होती है

  • फोड़ा बनना

यदि उपरोक्त किसी भी क्षेत्र में चोट लगने या अन्य कारणों से छोटे बच्चों में मवाद को कम करने में दवा प्रभावी नहीं है तो सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है।

नवजात शिशुओं में बड़ी जन्मजात बीमारियों का खतरा अधिक होता है। मां की सोनोग्राफी में ज्यादातर समय आप इन बीमारियों को समझ सकते हैं।नवजात को एनआई सीयू में भर्ती करने की आवश्यकता हो सकती हैं । इसलिए छोटे बच्चो का हेल्थ इन्शुरन्स (Health insurance in hindi) होना बहुत जरुरी होता हैं.

Leave a Comment