नवजात शिशु में कंगारू मदर केयर | Kangaroo Mother Care in Hindi

नवजात शिशुओं में कंगारू मदर केयर (Kangaroo Mother Care in Hindi) को हथियार के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। कुछ परिवारों में, जन्म के समय कम दिन के या जन्म के समय कम वजन के बच्चे परिवार के सदस्यों के लिए चिंता का विषय होते हैं। ऐसे समय में कंगारू मदर केयर का इस्तेमाल करने से ऐसे बच्चों में समस्या होने से बचाया जा सकता है। तो आइए जानें कंगारू मदर केयर के बारे में जरूरी जानकारी।

कंगारू मदर केयर क्या है? (Kangaroo mother care kya hain?)

कंगारू मदर केयर कम दिन के और कम वजन वाले बच्चों के लिए त्वचा से त्वचा की जाने वाली देखभाल है। जो नवजात शिशु की वृद्धि और विकास में मदद करता है। कंगारू मदर केयर माता, पिता या घर के अन्य व्यक्ति द्वारा दी जा सकती है।

कंगारू मदर केयर देने के क्या लाभ हैं? (Kangaroo mother care ke fayde)

कंगारू मदर केयर (Kangaroo mother care in hindi) देने से निम्नलिखित लाभ होते हैं

  • नवजात शिशु पूरी तरह से स्तनपान करना शुरू कर देता है
  • नवजात शिशुओं में मृत्यु दर को कम करता है।
  • नवजात शिशुओं में संक्रमण के मामले बहुत कम होते हैं।
  • नवजात को शरीर के गिरते तापमान से बचाया जा सकता है।
  • कम दिन अस्पताल में रुकना पड़ता हैं उस वजह से अस्पताल का खर्च भी बचता है।
  • नवजात शिशुओं का वजन बढ़ाने में मदद करता है।
  • नवजात शिशु की लंबाई बढ़ाने में मदद करता है।
  • नवजात के सिर की परिधि को बढ़ाने में मदद करता है।

कंगारू मदर केयर के लिए क्या आवश्यकताएं हैं?

कंगारू मदर केयर के लिए निम्नलिखित चीजे आवश्यक हैं।

  • कंगारू मदर केयर माता-पिता और घर में कोई भी व्यक्ति प्रदान कर सकता है।
  • आधे आराम के लिए इस्तेमाल की जाने वाली कुर्सी
  • बच्चे की मां को बटन-डाउन गाउन पहनना आवश्यक है। वे ब्लाउज, साड़ी के साथ-साथ सादे शर्ट का भी उपयोग कर सकते हैं।
  • बच्चे को एक टोपी, मोज़े, डायपर, एक शर्ट चाहिए जिसमें सामने का भाग खुला हो।
  • कंगारू मदर केयर एक बच्चे को बहुत ही कम खर्च में उपलब्ध कराया जा सकता है।

कंगारू मदर केयर किन बच्चों को दी जाती है?

  • कम वजन वाले बच्चों में अगर वजन 2.5 किलो से कम होता है
  • 37 सप्ताह से पहले जन्म लेने वाले बच्चों में
  • एनआईसीयू में स्वस्थ होने के बाद 1.2 किलोग्राम से कम वजन वाले बच्चो में
  • 2.5 किलो से अधिक वजन वाले बच्चों को भी कंगारू मदर केयर दी जा सकती है।

कंगारू मदर केयर कौन प्रदान कर सकता है?

कंगारू मदर केयर माता, पिता, दादी, दादा कोई भी दे सकते है। लेकिन कंगारू मदर केयर मां द्वारा बेहतर दी जाती है क्योंकि यह मां और बच्चे के बीच के बंधन को मजबूत करता है और स्तन के दूध को बढ़ाने में भी मदद करता है।

कंगारू मदर केयर देते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

  • कंगारू मदर केयर प्रदान करने वाले व्यक्ति की संकल्प शक्ति ज्यादा होनी चाहिए। कंगारू मदर केयर के लाभों को समझने से देखभाल करने वाले की इच्छा निश्चित रूप से बढ़ेगी।
  • कंगारू मदर केयर प्रदान करने वाला व्यक्ति स्वस्थ होना चाहिए।
  • मां ने नियमित आहार लेना चाहिए।
  • कंगारू मदर केयर देने वाले व्यक्ति को रोजाना नहाना चाहिए, हाथ धोना चाहिए और अपने नाखूनों को काटना चाहिए। ताकि उसकी देखभाल करते समय बच्चे को कोई नुकसान न हो।

कंगारू मदर केयर प्रदान करने की प्रक्रिया क्या है? (Kangaroo mother care kaise deni chahiye)

सबसे पहले कंगारू मदर केयर देने की इच्छाशक्ति होना बहुत जरूरी है।

1) बच्चे को कंगारू पोजीशन में रखना – बच्चे को कंगारू पोजीशन में रखने के लिए उसे मां की दोनों स्तनों में कंगारू पोजीशन में लेटाना चाहिए। बच्चे का पेट मां की छाती के करीब होना चाहिए। बच्चे का सिर एक तरफ और गर्दन थोड़ी पीछे रहनी चाहिए। ताकि बच्चे की सांस खुली रहे और मां बच्चे को देख रही हो। बच्चे के पैर मुड़े होने चाहिए। बच्चे की पीठ को हाथ से सहारा देना चाहिए।

2) शिशु की सावधानीपूर्वक निगरानी – शिशु को कंगारू मदर केयर देते समय निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना बहुत जरूरी है। कंगारू मदर केयर देने वाले व्यक्ति को इस बात पर नजर रखने की जरूरत है कि क्या बच्चे की गर्दन पीछे की तरफ है, क्या बच्चे की सांस नियमित है, क्या बच्चे का रंग गुलाबी है, क्या बच्चे के शरीर का तापमान नियमित है।

3) स्तनपान – शिशु के कंगारू अवस्था में होने पर बच्चे की माँ स्तनपान करा सकती है, माँ का दूध भी वाटी चम्मच से पिलाया जा सकता है।

4) कंगारू मदर केयर देने का समय – कंगारू मदर केयर एक घंटे से कम समय तक नहीं देना चाहिए। लेकिन उस समय को ज्यादा से ज्यादा बढ़ाना चाहिए ताकि बच्चे को इसका फायदा मिल सके।

5) स्लीपिंग कंगारू मदर केयर – कंगारू मदर केयर शिशु को आरामदायक कुर्सी पर बैठकर या सिर के हिस्से को बिस्तर पर ऊंचा रखकर दी जा सकती है। ऐसे समय में मां सोते हुए भी आराम कर सकती है।

बच्चे को अस्पताल से कब छुट्टी मिलती है?

अस्पताल के कर्मचारियों की देखरेख में कंगारू मदर केयर प्रदान की जाती है। बच्चे को अस्पताल से ऐसे समय में छुट्टी दे दी जाती है जब निम्नलिखित मानदंड पूरे होते हैं।

  • जब बच्चे का वजन नियमित रूप से बढ़ना शुरू हो जाता है, यानी लगातार 3 दिनों तक 15 ग्राम प्रति किलोग्राम वजन बढ़ने के बाद।
  • यदि बच्चे के शरीर का तापमान लगातार तीन दिनों तक नियमित रहता है
  • अगर बच्चा नियमित रूप से स्तनपान कर रहा है
  • अगर बच्चा अच्छे स्वास्थ्य में है
  • अगर मां और परिवार के सदस्यों में बच्चे की देखभाल करने की इच्छा है

बच्चे को कंगारू मदर केयर देना कब बंद करें?

कंगारू मदर केयर तब तक दी जानी चाहिए जब तक कि बच्चे का वजन 2.5 किलो न हो जाए। उसके बाद भी कंगारू मदर केयर दी जा सकती हैं। कंगारू मदर केयर बच्चे को नहलाने के बाद ठंड के दिनों में भी दिया जा सकता है।

परिवार के सभी सदस्यों का शामिल होना और कंगारू मदर केयर प्रदान करने वाले की इच्छा होना बहुत जरूरी है। ऐसे समय में जब माँ बच्चे की देखभाल करते-करते थक जाती है, बच्चे के पिता कंगारू मदर केयर दे सकते हैं ताकि बच्चे की माँ उस समय आराम कर सके।

समाज में कंगारू मदर केयर (Kangaroo mother care in hindi) के लाभों को जानना बहुत जरूरी है क्योंकि यह नवजात की जान को खतरे से बचाती है और नियमित रूप से बढ़ती है।

अगर आपको कंगारू मदर केयर (Kangaroo mother care in hindi) के बारे में जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें ताकि वे भी इस जानकारी से लाभान्वित हो सकें।

Ref –

Kangaroo mother care WHO

Leave a Comment