6 Unique Benefits of Laparoscopy in Hindi | लैप्रोस्कोपी एक दुर्लभ सर्जरी

लैप्रोस्कोपी (Laparoscopy in hindi) शब्द हम अपने दैनिक जीवन में कई बार सुनते हैं। कभी-कभी हम लैप्रोस्कोपी शब्द सुनते हैं जब हमारे किसी परिचित का ऑपरेशन हुआ हो और हम जानते हैं कि लैप्रोस्कोपी एक टेलीस्कोपिक सर्जरी है। तो, इस लेख में हम लैप्रोस्कोपी के बारे में आवश्यक जानकारी जानेंगे

Table of Contents

लैप्रोस्कोपी क्या है? (What is Laparoscopy in hindi?)

लैप्रोस्कोपी एक प्रकार की टेलीस्कोपिक सर्जरी है। इसमें पेट में और पेट के चारों ओर दूरबीन डालकर पेट की बीमारियों का निदान और उपचार करना शामिल होता है। इस सर्जरी को मिनिमली इनवेसिव सर्जरी कहा जाता है। इसे की होल सर्जरी भी कहा जाता है।

लैप्रोस्कोपी लैप्रोस्कोप डिवाइस के साथ किया जाता है। लैप्रोस्कोप एक ट्यूब के आकार का उपकरण होता है जिसमें कैमरा और एक प्रकाश स्रोत जुड़ा होता है। यह कैमरा एक हाई रेजोल्यूशन कैमरा होता है। साथ ही प्रकाश उच्च तीव्रता का होता है। तो स्क्रीन पर पेट के अंगों के साथ-साथ बीमारी की स्थिति को भी समझा जा सकता है।

लैप्रोस्कोपी क्यों की जाती है?

लैप्रोस्कोपी (Laparoscopy in hindi) करने के दो मुख्य कारण हैं।

  1. पेट की बीमारियों के निदान के लिए।
  2. पेट की बीमारियों के इलाज के लिए।

पेट की बीमारियों के निदान के लिए

अब आप सोच रहे होंगे कि रोग के निदान के लिए एक्स-रे, सोनोग्राफी, सीटी स्कैन जैसी सुविधाएं उपलब्ध होने के बावजूद लैप्रोस्कोपी की आवश्यकता क्यों है। कुछ मामलों में, यदि उस सुविधासे निदान नहीं किया जाता है, तो लैप्रोस्कोपी की आवश्यकता हो सकती है।

  • एक्स-रे – उत्सर्जित किरणों का उपयोग करके पेट की तस्वीर लेने के लिए एक्स-रे का उपयोग किया जाता है। आंतों में रुकावट और गुर्दे की पथरी जैसी बीमारियों के निदान के लिए एक्स-रे का उपयोग किया जाता है।
  • सोनोग्राफी – अल्ट्रासाउंड को एक विशेष उपकरण द्वारा पेट में उत्सर्जित किया जाता है, जो पेट के अंगों की जांच करता है। सोनोग्राफी एक बहुत ही उपयोगी तकनीक है। इसलिए, उत्सर्जित किरणों के संपर्क के आये बिना कई बीमारियों का निदान किया जाता है।
  • CT scan – CT scan शरीर के विभिन्न भागों का एक्स-रे लेता है। यह लगभग 300 एक्स-रे का उपयोग एक बार करता है।
  • एमआरआई – एमआरआई में चुंबकीय और रेडियो तरंगों का उपयोग करके शरीर के कुछ हिस्सों की तस्वीरें लेना शामिल है।

यदि उपरोक्त सभी परीक्षण रोग का निदान नहीं करते हैं और साथ ही डॉक्टर शारीरिक परीक्षण भी करते हैं, तो डॉक्टर को रोग का संदेह होने पर लैप्रोस्कोपी करने के लिए कह सकते हैं।

लैप्रोस्कोपी सबसे अधिक बार बायोप्सी या अंग के एक टुकड़े को टेस्ट करने के लिए किया जाता है। लैप्रोस्कोपी यकृत, पित्ताशय की थैली, अग्न्याशय, परिशिष्ट, प्लीहा, छोटी और बड़ी आंतों के साथ-साथ पेट के अंगों की जांच करता है और निदान करता है कि उपरोक्त में से कौन सा अंग रोगग्रस्त है।

पेट की बीमारियों के इलाज के लिए

यदि जांच करने पर रोग का पता चलता है, तो रोग का तुरंत उपचार किया जाता है।

निम्नलिखित बीमारियों का इलाज लैप्रोस्कोपी से किया जाता है

  • अंडाशय जो नीचे नहीं आया हैं
  • पित्ताशय की थैली निकालने के लिए
  • पेट के ट्यूमर को निकाल ने के लिए
  • मैक्यूल डायवर्टीकुलम के संचालन के लिए
  • आंतों की जटिलताओं को हल करने के लिए
  • नेफरेक्टोमी
  • पाइलोप्लास्टी
  • डिम्बग्रंथि की सर्जरी

लैप्रोस्कोपी कैसे की जाती है?

लैप्रोस्कोपी रोगी के संपुर्ण भूल देने के बाद की जाता है। पूर्ण भूल ऑपरेशन के दौरान रोगी को दर्द का कारण नहीं बनता है। एनेस्थीसिया से पहले मरीज की नस में इंट्राकैथ इंजेक्ट लगाया जाता है ताकि ऑपरेशन से पहले मरीज को 4-5 घंटे उपवास करना पड़े। नस से मरीज को सलाइन और इंजेक्शन दिए जाते हैं ताकि मरीज को भूक ना लगे।

लैप्रोस्कोपी करने के लिए, सर्जन मरीज के पेट पर 0.5 मिमी का चीरा लगाता है। इस चीरे के माध्यम से पेट में एक लेप्रोस्कोप छोड़ा जाता है। इस चीरे के माध्यम से पेट में CO2 गैस जाती है। ताकि पेट फूल जाए और पेट के अंगों की जांच करने में दिक्कत न हो। दूसरे चीरे से लैप्रोस्कोपी करने के लिए अन्य उपकरणों का उपयोग किया जाता है।

लैप्रोस्कोप एक कैमरा और प्रकाश स्रोत से लैस है। प्रकाश स्रोत से पेट के अंगों को जांचना आसान हो जाता है। साथ ही, कैमरे की मदद से ऑपरेशन में स्पेस को बड़ी स्क्रीन पर देखा जा सकता है। लैप्रोस्कोपी प्रक्रिया पूरी होने के बाद, पेट में से गैस के साथ उपकरण हटा दिए जाते हैं, और पेट में चीरों को टाको द्वारा बंद कर दिया जाता है।

प्रक्रिया पूरी होने के बाद, रोगी को कमरे में स्थानांतरित कर दिया जाता है और रोगी कुछ समय तक सोता रहता है

लैप्रोस्कोपी के बाद मरीज को ठीक होने में कितना समय लगता है?

चूंकि लैप्रोस्कोपी के लिए पूर्ण भूल देने के बाद किया जाती है, ऑपरेशन के बाद बच्चे को कुछ घंटों तक भूखा रखा जाता है। उनकी हृदय गति, श्वसन दर और ऑक्सीजन पर भी नजर रखी जाती है। अक्सर लैप्रोस्कोपी ऑपरेशन के तुरंत बाद कुछ घंटों के भीतर बच्चे को छुट्टी दे दी जा सकती है।

लेकिन यदि शिशु की बीमारी गंभीर है, तो शिशु को अधिक दिनों तक अस्पताल में रहना पड़ सकता है। ऑपरेशन के बाद कुछ दिनों तक चीरे वाली जगह में दर्द होते रहता है और डॉक्टर दर्द को कम करने के लिए दवा लिखते हैं।

लैप्रोस्कोपी के बाद कंधे के दर्द का सबसे आम कारण पेट में डाली जाने वाली गैस होती है, जो पेट के डायाफ्राम को खींचती है और इसकी नसें कंधे की मांसपेशियों से जुड़ी होती हैं, यही वजह है कि कंधे में दर्द होता है। यह दर्द 2-3 दिनों में कम हो जाता है। लैप्रोस्कोपी सर्जरी के बाद बड़ो की तुलना में छोटे बच्चे तेजी से ठीक होते हैं।

लैप्रोस्कोपी से क्या समस्याएं हो सकती हैं?

लैप्रोस्कोपी एक प्रकार का सुरक्षित ऑपरेशन है। लैप्रोस्कोपी ऑपरेशन के बाद समस्याएं शायद ही कभी होती हैं। 1000 में से 2-3 मरीजों को ऐसी समस्या होती है। ऑपरेशन की जगह पर संक्रमण, रक्तस्राव, उल्टी, सामान्य के साथ-साथ बुखार, पेट में चोट, बड़ी धमनी की चोट, एनेस्थीसिया के कारण एलर्जी जैसी गंभीर समस्याएं हो सकती हैं।

लैप्रोस्कोपी ऑपरेशन कराने के क्या फायदे हैं?

लैप्रोस्कोपी ऑपरेशन के लैपरोटॉमी ऑपरेशन की तुलना में कई फायदे हैं। लैप्रोस्कोपी ऑपरेशन के लाभ इस प्रकार हैं

  • रोगी जल्दी ठीक हो जाता है
  • दर्द बहुत कम होता है
  • बहुत छोटे चीरे लगाए जाते हैं
  • संक्रमण का खतरा बहुत कम होता हैं
  • अस्पताल में काम दिन एडमिट रखना पड़ता है
  • स्कूल जाना या जल्दी काम करना शुरू कर सकते हैं

चूंकि लैप्रोस्कोपी (Laparoscopy in hindi) ऑपरेशन का चीरा छोटा होता है, भविष्य में उस स्थान पर आंत से चिपके रहने से आंतों में रुकावट की घटना बहुत कम होती है जो कि एक बड़ा चीरा बनाकर किए गए ऑपरेशन में बहुत अधिक होता है जिसके लिए भविष्य में पुन: ऑपरेशन की आवश्यकता हो सकती है। .

बच्चों में लैप्रोस्कोपी ऑपरेशन और वयस्कों में लैप्रोस्कोपी ऑपरेशन में क्या अंतर है?

छोटे बच्चों में लैप्रोस्कोपी करने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला उपकरण छोटा होता है। छोटे बच्चों में, लैप्रोस्कोपी की आवश्यकता बहुत कम जगह में होती है, इसलिए इस ऑपरेशन को करने के लिए एक विशेषज्ञ बाल रोग सर्जन की आवश्यकता होती है।

लैप्रोस्कोपी (Laparoscopy in hindi) को लेकर हमारे समाज में कुछ भ्रांतियां हैं। लेकिन माता-पिता के लिए यह जानना बहुत जरूरी है कि उनके बच्चे का सही समय पर सही इलाज के साथ-साथ सही विशेषज्ञ डॉक्टर से मिलने से बच्चे का अच्छा भविष्य सुनिश्चित होता हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

क्या छोटे बच्चों में लैप्रोस्कोपी ऑपरेशन हो सकता है?

नवजात से लेकर वयस्क तक लेप्रोस्कोपिक सर्जरी की जा सकती है।

लैप्रोस्कोपी छोटा ऑपरेशन है या बड़ा?

रोगी की स्थिति के आधार पर, ऑपरेशन छोटा या बड़ा हो सकता है। रोग का निदान करने के लिए, हर्निया जैसे ऑपरेशन छोटे होते हैं और अपेंडिक्स, पित्ताशय की थैली, आंतों और गुर्दे पर ऑपरेशन बड़े होते हैं।

लैप्रोस्कोपी सर्जरी के बाद बच्चे कब खेलना शुरू करते हैं?

लैप्रोस्कोपी ऑपरेशन के तुरंत बाद बच्चे खेलना शुरू कर देते हैं। बच्चे पहले 24 घंटों में खेलना शुरू कर सकते हैं क्योंकि पेट पर बहुत कम टांके होते हैं।

लैप्रोस्कोपी ऑपरेशन के बाद क्या खाना चाहिए?

ऑपरेशन के बाद, अधिमानतः अपने बच्चे को दूध, घर का बना फलों का रस जैसे तरल पदार्थ दें। ऑपरेशन के बाद दूसरे दिन से ठोस आहार दिया जा सकता है।

लैप्रोस्कोपी के बाद आप कितने समय के बाद चल सकते हैं?

लेप्रोस्कोपी के 5-6 घंटे बाद भूल उतरना शुरू होता है, तो पेशंट ५-६ घंटे के बाद चल सकता हैं। पैदल चलने से रक्त संचार बढ़ता है और पाचन क्रिया भी बेहतर होती है। कुछ दिनों के लिए भारी काम से बचें

लैप्रोस्कोपी के लिए पेट में डाली जाने वाली गैस कितने दिनों में कम हो जाती है?

लैप्रोस्कोपी के लिए, पेट के अंगों को उजागर करने के लिए कार्बन डाइऑक्साइड गैस छोड़ी जाती है, लेकिन ऑपरेशन के बाद 3-4 दिनों में यह गैस धीरे-धीरे कम हो जाती है। तब तक रोगी के पेट में गैस हो सकती है।

लैप्रोस्कोपी के बाद बेहतर नींद कैसे लें?

लैप्रोस्कोपी के बाद, अपनी पीठ के बल लेटना बेहतर होता है, लेकिन ऐसी स्थिति में सोना बेहतर होता है, जहां रोगी को सोने में आराम महसूस हो।

Leave a Comment