अपेंडिक्स के संक्रमण में क्या करे? | Appendicitis in Hindi

बच्चों में अपेंडिक्स के संक्रमण (appendicitis in hindi) में अचानक पेट में दर्द होने लगता है। दर्द ऐसा होता है कि बच्चा बहुत चुप रहता है और कराहता है। ऐसे समय में माता-पिता भी परेशान हो जाते हैं। यह एक तरह की आपात स्थिति है क्योंकि अगर अपेंडिक्स फट जाता है तो लड़के/लड़की की जान को खतरा होता है।

इसलिए इस लेख में हम जानेंगे कि अगर आपके बेटे/बेटी को ऐसी कोई समस्या है तो क्या करें और अपेंडिक्स के संक्रमण के क्या कारण हैं।

Table of Contents

अपेंडिक्स क्या है? (What is appendix in hindi?)

अपेंडिक्स एक कृमि के आकार का अंग है। यह अंग छोटी आंत और बड़ी आंत के जंक्शन के पास स्थित होता है। अपेंडिक्स नीचे और नाभि के दाईं ओर स्थित है।

अपेंडिक्स को वेस्टीजियल ऑर्गन कहा जाता है क्योंकि इसका शरीर में कोई महत्व नहीं है। इस अंग के बिना भी हम सामान्य जीवन जी सकते हैं।

अपेंडिक्स इन्फेक्शन क्या है? (What is appendicitis in hindi?)

अपेंडिक्स में संक्रमण के कारण अपेंडिक्स की सूजन या जब आंत से मल अपेंडिक्स में प्रवेश करता है, तो यह वहां रुकने लगता है, जिससे अपेंडिक्स में संक्रमण और सूजन हो जाती है।

बच्चों में अपेंडिक्स इन्फेक्शन के लक्षण (Symptoms of appendicitis in hindi)

अपेंडिसाइटिस में नाभि के पास पेट में दर्द होता है। थोड़ी देर बाद पेट में दर्द तेज हो जाता है और पेट के निचले हिस्से में दाहिनी ओर भी दर्द होने लगता है।

यदि आपके बच्चे को नाभि के पास दर्द होता है, तो यह महत्वपूर्ण है कि आप एपेंडिसाइटिस के अन्य लक्षणों को जानें।

  •    नाभि के पास पेट में दर्द और पेट के दाहिने हिस्से में पेट में दर्द बढ़ जाना।
  •    चलते वक़्त में झुककर चलना।
  •    उच्च श्रेणी का बुखार।
  •    भूख में कमी।
  •    मचलाहट और उल्टी।

अपेंडिक्स फट जाए तो पेट में दर्द और तेज हो जाता है और बुखार भी बढ़ जाता है। ऐसे वक़्त अपने चिकित्सक से तुरंत परामर्श करना महत्वपूर्ण है।

यदि अपेंडिक्स फटा हुआ है, तो स्थिति को परफोरेटेड अपेंडिक्स (Perforated appendix in hindi) कहा जाता है। यह समय बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि इस स्थिति में मरीज की जान को खतरा होता है।

अपेंडिक्स इंफेक्शन में किस प्रकार की समस्याएं हो सकती हैं?(What are complications of appendicitis in hindi?)

यदि संक्रमित अपेंडिक्स को नहीं निकाला गया है, तो लक्षणों की शुरुआत के 48 से 72 घंटों के भीतर इसके फटने की संभावना अधिक होती है।

अपेंडिक्स के संक्रमण से कौन पीड़ित हो सकता है?

अपेंडिक्स रोग तीन साल की उम्र से किसी को भी प्रभावित कर सकता है। जाहिर है, एपेंडिसाइटिस की कोई उम्र नहीं होती है।

अपेंडिक्स संक्रमण का निदान कैसे किया जाता है?

एपेंडिसाइटिस के लक्षण दस्त(Diarrhea in hindi), मूत्रमार्ग का संक्रमण (Urinary Tract Infection in hindi) और मूत्रमार्ग मैं पथरी (Renal Stone in hindi) जैसे दिखते हैं। इसलिए डॉक्टरों के लिए अपेंडिक्स के संक्रमण का निदान करना एक चुनौती होती है।

अपेंडिक्स के दर्द का निदान डॉक्टर पेट के दाहिने और निचले हिस्से की जांच करके करते हैं और इसके लिए कुछ रक्त परीक्षण, पेट की सोनोग्राफी, एक्स-रे और शायद ही कभी पेट के सीटी स्कैन की आवश्यकता हो सकती है।

  • रक्त जांच – यदि संक्रमण रक्त में फैलता है, तो श्वेत रक्त कोशिकाएं बढ़ जाती हैं।
  • सोनोग्राफी – अपेंडिक्स पर कितनी सूजन है? यह कितना लंबा है? और अगर यह फट गया है? ये खोज हम सोनोग्राफी पर जान पाएंगे। यदि अपेंडिक्स फटा हुआ है, तो सीटी स्कैन की आवश्यकता हो सकती है।

अपेंडिक्स इन्फेक्शन का इलाज क्या है? (What is treatment of appendicitis in hindi?)

अपेंडिक्स के संक्रमित होने पर (appendicitis in hindi) उसे हटाना ही एकमात्र इलाज है क्योंकि अगर अपेंडिक्स फट जाता है तो पेट में संक्रमण फैलने का खतरा रहता है और कभी-कभी आंतों में रुकावट (आपातकालीन स्थिति) हो जाती है।

अपेंडिक्स को हटाने के ऑपरेशन को एपेंडेक्टोमी (appendectomy in hindi) कहा जाता है। यह ऑपरेशन ओपन सर्जरी या लैप्रोस्कोपी द्वारा किया जाता है।

लैप्रोस्कोपिक सर्जरी तब की जाती है जब एपेंडिसाइटिस कोई जटिलता पैदा नहीं करता है। लैप्रोस्कोप से अपेंडिक्स को हटाने के ऑपरेशन को लैप्रोस्कोपिक एपेंडेक्टोमी (Laparoscopic appendectomy in hindi) कहा जाता है। लेकिन जब अपेंडिक्स के फटने की वजह से कोई जटिलता होती है, तो ओपन सर्जरी का विकल्प होता है। ओपन सर्जरी को लैपरोटॉमी कहा जाता है।

ऑपरेशन से पहले

सर्जन बीमारी के बारे में सारी जानकारी देता है और इसके पीछे के कुछ जोखिमों के बारे में भी बताता है। बच्चे को बेहोश करने के बाद ही ऑपरेशन किया जाता है। ऑपरेशन से पहले बच्चे को मौखिक रूप से कुछ भी नहीं दिया जा सकता है क्योंकि अगर एनेस्थीसिया के दौरान या बाद में बच्चा उल्टी करता है, तो बच्चे की जान को खतरा हो सकता है।

ऑपरेशन के बाद

ऑपरेशन के बाद भी बच्चे को कुछ घंटों तक भूखा रहना पड़ता है। बच्चे का इलाज आय व्ही फ्लुइड्स से किया जाता है। पेट के संक्रमण को कम करने के लिए बच्चे को एंटीबायोटिक्स दिए जाते हैं और पेट दर्द को कम करने के लिए भी इंजेक्शन  दिए जाते हैं।

अस्पताल में रहने का समय इस बात पर निर्भर करता है कि पेट में क्या पाया जाता है। यदि अपेंडिक्स फटा नहीं है और ऑपरेशन लैप्रोस्कोपी द्वारा किया जाता है, तो दो दिनों में डिस्चार्ज दिया जाता है। लेकिन किसी कारण से ओपन सर्जरी की जाती है तो अस्पताल से डिस्चार्ज होने में चार से पांच दिन लग सकते हैं।

घर पर ले जाने की देखभाल

अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद घर पर निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए।

  •     कम से कम एक सप्ताह तक आराम करें और आउटडोर गेम न खेलें।
  •     भोजन हमेशा की तरह लेना चाहिए।
  •     हमेशा की तरह स्नान करें।
  •     दर्द हो तो डॉक्टर द्वारा बताई गई दवा लें।
  •     टांके हटाने के लिए सात दिनों के बाद डॉक्टर से संपर्क करें।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

क्या अपेंडिक्स बिना सर्जरी के ठीक नहीं होता है?

नहीं।

लैप्रोस्कोपिक सर्जरी ओपन सर्जरी की तुलना में अपेंडि

ओपन सर्जरी में पेट में एक बड़ा चीरा लगाया जाता है। अस्पताल में लम्बा रहना पड़ता हैं ।
लैप्रोस्कोपिक सर्जरी में पेट के पास और पेट के आसपास दो चीरे लगाए जाते हैं। अस्पताल में बहुत कम रहना पड़ता है।

अपेंडिक्स का संक्रमण जीवन के लिए खतरा है या नहीं?

कुछ माता-पिता सोचते हैं कि मौखिक दवा की मदद से अपेंडिक्स का संक्रमण कम हो जाएगा लेकिन वे स्थिति की गंभीरता को नहीं समझते हैं। यदि समय व्यतीत हो जाता है तो अपेंडिक्स पेट में फट सकता है और बच्चे के जीवन को खतरे में डाल सकता है।

अपेंडिक्स सर्जरी के खर्च को कोई कैसे कम कर सकता है?

समय बहुत महत्वपूर्ण है। जब अपेंडिक्स संक्रमण का निदान किया जाता है और डॉक्टर द्वारा सर्जरी की सलाह दी जाती है तो बेहतर होगा कि जल्दी से निर्णय लिया जाए, इससे अस्पताल के खर्च में कमी आएगी। यदि माता-पिता को लंबा समय लगता है तो उस समय तक अपेंडिक्स फट सकता है और लैप्रोस्कोपिक सर्जरी ओपन सर्जरी में परिवर्तित हो सकती है जिससे अंततः इलाज की लागत बढ़ जाती है।

क्या बच्चों में अपेंडिक्स का संक्रमण होता है?

हां

1 thought on “अपेंडिक्स के संक्रमण में क्या करे? | Appendicitis in Hindi”

Leave a Comment