बच्चो में हाथ पैर और मुंह की बीमारी | Hand Foot and Mouth Disease in Hindi

हाथ पैर और मुंह की बीमारी (Hand Foot and Mouth Disease in Hindi) नाम से आपको समझ में आ गया होगा कि इस बीमारी में शरीर के अंग जैसे हाथ, पैर और मुंह शामिल होते हैं। जैसा कि आप जानते हैं कि यह एक प्रकार का वायरल रोग है जो हाथ, पैर और मुंह पर लक्षण पैदा करता है।

तो आइए जानते हैं इस बीमारी के बारे में जरूरी जानकारी। यह एक प्रकार का वायरल रोग है। जिसमें बुखार, मुख्य रूप से अंगों, अंगों पर लाल चकत्ते पड़ना। चेहरे पर और कभी-कभी जांघों और पेट पर त्वचा पर चकत्ते भी पड़ जाते हैं।

हाथ पैर और मुंह की बीमारी (HFMD in hindi) आमतौर पर पांच साल से कम उम्र के बच्चों को प्रभावित करती है। यह वृद्ध लोगों को भी प्रभावित करता है। यह रोग कॉक्ससेकी वायरस द्वारा फैलता है।

Table of Contents

हाथ पैर और मुंह की बीमारी कैसे फैलती हैं?

हाथ, पैर और मुंह की बीमारी (Hand Foot and Mouth Disease in Hindi) एक संक्रामक, छूत की बीमारी है। इसलिए घर में यह बीमारी होने पर सभी के लिए अपने हाथों को साबुन से अच्छी तरह धोना बहुत जरूरी है। रोग निम्नलिखित कारणों से फैलता है।

 1) रोगी के छींकने या खांसने से उसकी लार में से वायरस हवा में फैल जाता है और किसी वस्तु पर गिर जाता है। यदि किसी स्वस्थ व्यक्ति द्वारा वस्तु को छुआ जाए तो यह स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में फैल सकती है।

2) हवा में लार के संपर्क में आने से स्वस्थ व्यक्ति के नथुने से वायरस फैल सकता है।

 3) रोगी के मल के साथ अप्रत्यक्ष संपर्क के कारण भी संक्रमण हो सकता है। रोगी के मुंहासों वाले क्षेत्र से निकलने वाले पदार्थ के संपर्क में आने से भी संक्रमण हो सकता है। यह रोग मुख्य रूप से ग्रीष्मकाल और बरसात के शुरुआती मौसम में दिखाई देता हैं ।

हाथ पैर और मुंह की बीमारी के लक्षण क्या हैं?

हाथ पैर और मुंह की बीमारी (Hand Foot and mouth disease in hindi) के लक्षण शुरू में बुखार, सिरदर्द और ठंड लगना हैं। मुँहासे मुख्य रूप से एक से दो दिनों में लोगों को प्रभावित करते हैं। ये रैशेज लाल फफोले का कारण होते हैं। इस तरह के मुंहासे मुख्य रूप से अंगों को प्रभावित करते हैं।

इस तरह का छाला मुंह में भी हो जाता है और उस जगह पर दाने निकल आते हैं। मुख्य रूप से मसूड़ों, जीभ और गालों के अंदर छाले आ सकते हैं । इससे बच्चे को खाना निगलने में दिक्कत होती है। इसलिए बच्चा खा नहीं पाता।

बच्चा बहुत चिड़चिड़ा होता है। बच्चे को बहुत लार आ रही होती है। बिना कुछ खाए के रहते हैं ।

हाथ पैर और मुंह के बीमारी का निदान कैसे किया जाता है?

हाथ पैर और मुंह के रोग का निदान शिशु की शारीरिक जांच के माध्यम से किया जाता है। डॉक्टर लक्षणों के आधार पर आपके बच्चे का निदान करते हैं। निदान की पुष्टि करने के लिए गले से स्वैब टेस्ट किया जाता हैं । लेकिन यह जांच ये बहुत कम बार की जाती हैं  ।

हाथ पैर और मुंह के बीमारी का इलाज कैसे किया जाता है?

यह रोग सात से आठ दिन में ठीक हो जाता है। डॉक्टर आपके बच्चे के लक्षणों के अनुसार उसका इलाज दे सकते हैं।

  •     बुखार और सिरदर्द को कम करने के लिए बच्चे को पेरासिटामोल या इबुप्रोफेन नामक दवा दी जाती है।
  •     शरीर पर मुंहासों को कम करने के लिए कुछ लोशन दिए जा सकते हैं।
  •     सर्दी-खांसी को कम करने के लिए दवाएं दी जाती हैं।
  •     मुंह के छालों की जगह पर जैल लगाया जा सकता है।

डॉक्टर निम्न प्रकार की सलाह दे सकते हैं

  •  बच्चे को भरपूर पानी पिने को दें।
  •  वे बच्चे को कोल्ड ड्रिंक या आइसक्रीम भी दे सकती हैं। लेकिन अगर बच्चे को सर्दी खांसी है तो इससे बचना चाहिए।
  •  बच्चे को गर्म खाना नहीं देना चाहिए। साथ ही मसालेदार और नमकीन चीजों से परहेज करें।
  •  जब माता-पिता अपने बच्चे की देखभाल करते हैं, तो उन्हें अपने बच्चे की नाक साफ करनी चाहिए, बच्चे का डायपर बदलने के बाद साबुन से हाथ धोना चाहिए। ताकि घर के दूसरे लोगों में संक्रमण न फैले।
  • बच्चों के कपड़े और बर्तन भी अलग रखने चाहिए। बच्चे के खिलौनों के साथ-साथ घर के उन हिस्सों को भी साफ रखना बहुत जरूरी है जो बार-बार संपर्क में आते हैं।
  • बच्चे को तब तक स्कूल नहीं भेजा जाना चाहिए जब तक कि दाने पूरी तरह से सूख न जाएं।

कुछ लक्षण के लिए बच्चे को अस्पताल में भर्ती करने की आवश्यकता हो सकती है?।

  •   जब बच्चा कुछ भी नहीं खाता-पीता है, तो बच्चे का शरीर डिहाइड्रेट होने लगता है और बच्चा सुस्त हो जाता है।
  •   अगर बच्चे को तीन दिन से ज्यादा बुखार है और बच्चा मुंह से खाना नहीं खाता है
  •   यदि बच्चे को रोग की अन्य जटिलताएँ हैं,

हाथ, पैर और मुंह की बीमारी की जटिलताएं क्या हैं?

इस बीमारी की जटिलताओं में डिहाइड्रेशन, वायरल मैनिंजाइटिस, एन्सेफलाइटिस हैं।

यह रोग सात से दस दिनों में अपने आप ठीक हो जाता है। घर में बच्चे की देखभाल करना बहुत जरूरी है। यदि आप अच्छी देखभाल करते हैं और डॉक्टर से सलाह लेते हैं, तो अस्पताल में भर्ती होने का समय नहीं आता है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

क्या हाथ पैर और मुंह की बीमारी दो बार हो सकती है?

हाँ, यह रोग दो या अधिक बार हो सकता है। यह रोग विभिन्न विषाणुओं के कारण होता है। इसलिए, यह रोग हर बार एक अलग वायरस के कारण होता है।

क्या हाथ पैर और मुंह की बीमारी मेनिन्जाइटिस का कारण बन सकती हैं?

हाथ, पैर और मुंह के रोग वायरल होते हैं लेकिन बहुत कम ही मेनिन्जाइटिस का कारण बन सकते हैं।

अगर बच्चा संक्रमित है तो हाथ पैर और मुंह की बीमारी माता-पिता को प्रभावित कर सकती है क्या?

यह रोग संक्रामक है और विशेष देखभाल के बिना बच्चे से माता-पिता तक फैल सकता है। यह माता-पिता द्वारा बच्चों बच्चो में भी फ़ैल सकता हैं ।

हाथ पैर और मुंह की बीमारी का वायरस कितने दिन सतह पर रह सकता है?

हाथ, पैर और मुंह के रोग का वायरस कई दिनों तक सतह पर रहता है। इसलिए साफ-सफाई बनाए रखने से बीमारी का फैलाव कम होता है।

हाथ पैर और मुंह की बीमारी एक वायरल बीमारी है जिसे ठीक होने में 5-7 दिन लग सकते हैं। इसलिए यदि माता-पिता अपने बच्चे की उचित देखभाल करते हैं, तो अस्पताल में भर्ती होने का समय नहीं आता है।

अगर आपको हाथ पैर और मुंह की बीमारी (Hand Foot and Mouth Disease in Hindi) का लेख पसंद आया है, तो कृपया इसे साझा करें या यदि आपके कोई प्रश्न हैं तो टिप्पणी करें।

1 thought on “बच्चो में हाथ पैर और मुंह की बीमारी | Hand Foot and Mouth Disease in Hindi”

Leave a Comment