बच्चो में इंटूससेप्शन की इमर्जन्सी | 1 Unique Intussusception Meaning in Hindi

आपके बच्चे को इंटूससेप्शन (Intussusception meaning in hindi) हो सकता है यदि वह खेलते समय अचानक शांत हो जाता है और उल्टी और पेट में दर्द होने लगता है और बच्चे को कुछ खाने के लिए तुरंत उल्टी हो जाती है।

जब उनके बच्चे के साथ अचानक ऐसा कुछ होता है तो माता-पिता डर जाते हैं, लेकिन तुरंत अपने बाल रोग विशेषज्ञ से संपर्क करना महत्वपूर्ण है।

तो, इस लेख में, आइए हम इंटूससेप्शन के बारे में जानें। ताकि आप समझ सकें कि ऐसी स्थिति में क्या करना चाहिए।

इंटूससेप्शन क्या है? (Intussusception meaning in hindi?)

इंट्यूसेप्शन आंतों की एक गंभीर बीमारी है। इस रोग में पेट की छोटी आंत बड़ी आंत में प्रवेश (bowel movement meaning in hindi) कर जाती है, जिससे आंत उस हिस्से में रूक जाती है और पचा हुआ भोजन आगे नहीं बढ़ पाता है। जैसे ही छोटी आंत बड़ी आंत में हुआ जाती है, छोटी आंत में रक्त की आपूर्ति बंद हो जाती है।

यदि छोटी आंत बहुत देर तक अटकी रहती है, तो उसकी रक्त आपूर्ति बंद हो जाएगी और वह हिस्सा सड़ने लगेगा। उस जगह गैंग्रीन विकसित होता है, इस लिए इंटूससेप्शन आपात स्थिति होती है। समय पर इलाज से बच्चे की जान बचाई जा सकती है।

इंटूससेप्शन तीन महीने से तीन साल की उम्र के बच्चों में सबसे आम होता है। यह नवजात शिशुओं में कम आम है और बड़े बच्चों के साथ-साथ वयस्क में भी हो सकता है। प्रति हजार बच्चो में से दो से तीन बच्चों में इंटूससेप्शन हो सकता है।

लड़कियों की तुलना में लड़कों में इंट्यूसेप्शन चार गुना अधिक हो सकता है।

इंटूससेप्शन का क्या कारण है?

इंटूससेप्शन का कारण स्पष्ट नहीं है। कुछ बच्चों में, इंटूससेप्शन होने की संभावना अधिक होती है यदि परिवार में किसी को पहले यह समस्या रही हो। किसी समय बच्चे को

  •     वायरस से संक्रमित हो
  •     पेट में ट्यूमर (गठान) हो
  •     अपेंडिक्स संक्रमित हो
  •     सिस्टिक फाइब्रोसिस नाम की बीमारी हो

तो इंटूससेप्शन हो सकता है।

इंटूससेप्शन के लक्षण क्या हैं?

इंटूससेप्शन के लक्षणों को जानना बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि यदि माता-पिता लक्षणों को नोटिस करते हैं और माता-पिता तुरंत डॉक्टर से परामर्श करते हैं, तो निदान जल्दी किया जाता है और समय पर उपचार बच्चे की मृत्यु के जोखिम से बचा जाता है।

हर बच्चे के लक्षण अलग हो सकते हैं लेकिन कुछ आम लक्षण ऐसे होते हैं

  •     जैसे खेलते-खेलते अचानक जोर-जोर से रोने लगता है।
  •     अचानक पेट दर्द चालू हो जाना।

इन लक्षणों के प्रकट होने से पहले शिशु शांत होता है और खेल रहा होता है।

  •     बार-बार उल्टी होना

आंतों में रुकावट के कारण बच्चों को उल्टी होने लगती है। बच्चे को मुंह से कुछ खाने को दिए जाने पर भी उल्टी होती है, वह पचता नहीं है। कभी-कभी हरी उल्टी भी हो सकती है।

  •     बुखार

आंतों में रुकावट से उस क्षेत्र में संक्रमण हो जाता है और बार-बार उल्टी होने से बच्चे को डिहाइड्रेशन होता है, जिससे बच्चे को बुखार आता है।

  •     बेबी सुस्त हो जाता हैं

 बार-बार उल्टी होने से बच्चे में नमक और पानी की कमी हो जाती है, जिससे बच्चा थका हुआ और सुस्त हो जाता है।

  •     बच्चे के पॉटी में खून बह रहा है

आंतों में थोड़ी मात्रा में रक्तस्राव होता है, जिससे बच्चे के पॉटी में खून दिखाई देता है।

  •     पेट की सूजन

आंतों में रुकावट के कारण आपके बच्चे के पेट में सूजन आ जाती है।

सबसे गंभीर लक्षण हैं सुस्ती, पॉटी में खून बहना और पेट में सूजन। ऐसे वक़्तअपने बाल रोग विशेषज्ञ से तुरंत सलाह लें।

इंटूससेप्शन का निदान कैसे किया जाता है?

इंटूससेप्शन एक गंभीर बीमारी है और इसलिए बच्चे के जीवन के लिए खतरा है, इसका जल्द से जल्द निदान किया जाना चाहिए।

माता-पिता द्वारा बताए गए लक्षणों और बच्चे की जांच के आधार पर डॉक्टर पहले बच्चे में इंटूससेप्शन का निदान करते है। निदान की पुष्टि के लिए निम्नलिखित प्रकार के परीक्षण किए जाते हैं।

  •     रक्त परीक्षण

क्या रक्त में जीवाणु संक्रमण होता है? इसकी जाँच करने के लिए ब्लड टेस्ट किया जाता हैं।

  •     पेट का एक्स-रे (Intussusception xray in hindi)

क्या पेट में आंत मैं कोई रुकावट हैं? तो एक्स रे मैं समझ आता है।

  •     पेट की सोनोग्राफी

पेट की सोनोग्राफी से पता चलता है कि आंत मैं कहां रुकावट है।

  •     बेरियम इनेमा

बेरियम इनेमा का उपयोग उनके निदान और उपचार के लिए भी किया जाता है, लेकिन अगर बच्चे को आंतों में संक्रमण है, तो बेरियम इनेमा कई बार खतरनाक हो सकता है।

बच्चों में इंटूससेप्शन का इलाज कैसे किया जाता है?

छोटे बच्चों में इंटूससेप्शन का उपचार रोगी की प्रकृति पर निर्भर करता है। इस उपचार में सबसे महत्वपूर्ण बात आंतों की रुकावट से छुटकारा पाना है। इसे दो तरीकों से किया जा सकता है।

इंटूससेप्शन का एनीमा उपचार - हइड्रोस्टैटिक रिडक्शन ऑफ़ इंटूससेप्शन

यदि बच्चे की स्थिति गंभीर नहीं है और वह बहुत संक्रमित नहीं है, तो सर्जन बच्चे की मलद्वार के माध्यम से एक ट्यूब डालेंगे और सलाइन से इनेमा देंगे। इससे छोटी आंत पर दबाव बढ़ने लगता है, जो बड़ी आंत में फंस जाती है और बड़ी आंत से निकल जाती है। इस प्रक्रिया को हइड्रोस्टैटिक रिडक्शन ऑफ़ इंटूससेप्शन कहा जाता है। एक बार जब यह आंत निकल जाती है, तो अगले चौबीस घंटों में फिर से इंटूससेप्शन होने की संभावना होती है।

यदि बच्चा अगले 24 घंटों तक स्वस्थ रहता है और उसकी की सोनोग्राफी सामान्य हो जाती है, तो उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी जाएगी।

ऑपरेशन द्वारा - इंटुससेप्शन लैपरोटॉमी सर्जरी

यदि एनीमा इंटुससेप्शन को कम नहीं करता है या आंत लंबे समय से फंसी हुई है, तो लैपरोटॉमी ओपन सर्जरी करनी पड़ती है।

इस ऑपरेशन में पेट को खोलना शामिल है ताकि यह पता लगाया जा सके कि आंतों में आंतें कहां फंसी हैं और फंसी हुई आंतों को एक दूसरे से अलग करना पड़ता है।

यदि आंत का कोई हिस्सा सड़ जाता है, तो उसे निकाल दिया जाता है और आंतों को आपस में सिल दिया जाता है।

जैसे-जैसे बच्चे का पाचन जारी रहता है, बच्चे का मल उस क्षेत्र से आगे की आंत में जाता है और कुछ दिनों के बाद यह छोटी आंत फिर से बड़ी आंत से जुड़ जाती है ताकि बच्चे का मल फिर से मलद्वार से बाहर आ जाए।

उपरोक्त ऑपरेशन एक आपात स्थिति है क्योंकि बच्चे की जान खतरे में है और इस ऑपरेशन से पहले बच्चे को भूखा रहना पड़ता है। इसलिए उसे सलाइन दिया जाता है और यह ऑपरेशन पूरे एनेस्थीसिया के साथ किया जाता है। ऑपरेशन के बाद भी, शिशु की स्थिति के आधार पर बच्चे को तीन से चार दिनों तक खाली पेट (उपवास) रखा जाता है। इसके लिए बच्चे को उसके वजन के हिसाब से हर 24 घंटे तक सेलाइन दिया जाता है ताकि बच्चा सुस्त न हो जाए।

पेट में संक्रमण और दर्द कम करने के लिए दर्द निवारक दवाओं को और एंटीबायोटिक इंजेक्शन का भी उपयोग किया जाता है। बच्चे की नाक के माध्यम से एक ट्यूब डाली जाती है जब तक कि बच्चे की आंतें काम करना शुरू न कर दें और टांके ठीक से भर न जाएं ताकि उल्टी के कारण पेट में पित्त छाती में प्रवेश न कर सके।

ऑपरेशन के बाद बच्चे को कम से कम पांच दिनों तक अस्पताल में भर्ती रहना पड़ता है।

इंटूससेप्शन की जटिलताएं क्या हैं?

इंटूससेप्शन एक आपात स्थिति है, ऐसे में बच्चे की जान को खतरा होता है। इंटूससेप्शन में निम्नलिखित जटिलताएँ होती हैं।

 1. आंतों में संक्रमण। (सेप्सिस)

2, आंतों का फटना । (आंतों का छिद्र)

3 आंतों के फटने से पूरे पेट में संक्रमण फैल जाता है। (पेरिटोनाइटिस)

अगर आपको पूरा लेख समझ में आया होगा तो आप अगर आपके बच्चे को अथवा किसी पहचानवाले बच्चे में ऊपर बताये हुए लक्षण दीखते हैं तो तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए। ऐसे वक़्त अगर डॉक्टर ने ऑपरेशन की सलाह दी होगी तो तुरंत डिसिजन भी लेना चाहिए जिससे बच्चे की जान बच सकती हैं।

अगर आपको लेख पसंद आया होगा तो अपने पेहचानवालो में शेयर करो।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

इंटूससेप्शन में बच्चे की पॉटी कैसी दिखती है?

अगर इंटूससेप्शन किसी बच्चे को होता है, तो उसकी पॉटी लाल और चिपचिपी हो सकती है। ऐसे वक़्त तुरंत डॉक्टर से परामर्श करना भी जरूरी है क्योंकि इस प्रकार के लक्षण डिसेंट्री में भी होती है।

क्या इंटूससेप्शन बीमारी ठीक होती है क्या ?

अगर समय पर इलाज किया जाए तो बिना सर्जरी के इस बीमारी को ठीक किया जा सकता है। लेकिन अगर लंबे समय से आंत फंसी हुई है तो पेट को खोलकर ऑपरेशन करना पड़ता है जिसे लैपरोटॉमी सर्जरी कहते हैं।

ऑपरेशन के बाद बच्चे का आहार क्या होना चाहिए?

ऑपरेशन के बाद बच्चे को नियमित रूप से दूध पिलाना चाहिए। इसमें आहार के लिए कोई बंधन नहीं होता हैं।

इंटूससेप्शन के लिए समय पर उपचार क्यों लेना चाहिए?

हम उपचार के लिए जितनी देर प्रतीक्षा करते हैं, बच्चे के जीवन के लिए उतना ही अधिक जोखिम होता है और बिना सर्जरी के फसी हुई आंत को निकालने में असमर्थता होती है, इसलिए माता-पिता को बच्चे के लक्षण होने पर बाल रोग विशेषज्ञ से परामर्श करने की आवश्यकता होती है।

क्या इंटूससेप्शन ऑपरेशन के बिना ठीक हो जाता है?

इसे अक्सर इंटरमिटैंट इंटूससेप्शन कहा जाता है, जिसे बिना सर्जरी के ठीक किया जा सकता है।

इंटूससेप्शन इमर्जन्सी क्यों होती हैं?

इंटूससेप्शन के वजह से आंत में रूकावट आ सकती हैं और ये रुकावट के वजह से आंत की वो जगह सड़ने लगती हैं अरे बच्चे के जान को खतरा बढ़ जाता हैं इसलिए इंटूससेप्शन ये एक प्रकारकी इमर्जन्सी होती हैं

1 thought on “बच्चो में इंटूससेप्शन की इमर्जन्सी | 1 Unique Intussusception Meaning in Hindi”

Leave a Comment