नवजात शिशु के सिर के ऊपर क्रैडल कैप |Cradle Cap in Hindi

जब घर में एक नए बच्चे का जन्म होता है तो घर में सभी बच्चे की अच्छी तरह से देखभाल करते हैं, लेकिन कभी-कभी घर में बूढ़े लोग पुराने रीति-रिवाजों को बताते हैं। वे सभी आदतें व्यर्थ नहीं हैं, लेकिन समय के साथ हम नई चीजें सीखते हैं। तो इस तरह की प्रथाओं से दूर रहना अच्छा उसमें से एक है की टालू पर ढेर सारा तेल लगाना। ऐसा माना जाता है कि इस तरह से तेल लगाने से सिर की त्वचा तुरंत भर जाती है। लेकिन ऐसा करते वक्त टालू पर फंगल इंफेक्शन हो जाता है। इस फंगल संक्रमण को क्रैडल कैप ( cradle cap in hindi) कहा जाता है।

क्रैडल कैप क्या होता हैं ? (What is Cradle cap in hindi ?)

क्रैडल कैप को इन्फेंटाइल सेबोरहाइक डर्मेटाइटिस (Infantile Seborrheic Dermatitis in hindi), क्रस्टा लैक्टिया ( Crusta Lactea in hindi ), मिल्क क्रस्ट (Milk Crust in hindi), हनीकॉम्ब डिजीज (honeycomb disease in hindi) के रूप में जाना जाता है। क्रैडल कैप एक प्रकार का डैंड्रफ है। क्रैडल कैप एक महीने से कम उम्र के 10% बच्चों में, तीन महीने से कम उम्र के 70% बच्चों में और एक से दो साल के बाद के 7% बच्चों में देखा जाता है। ये रोग संक्रामक नहीं है।

क्रैडल कैप के लक्षण क्या हैं? (What are of Cradle cap in hindi?)

क्रैडल कैप में निम्नलिखित लक्षण होते हैं- 

बच्चे के सामने की टालू पर एक पीले रंग की पपड़ी बन जाती है। शुरुआत में ये पापड़ियां कुछ क्षेत्रों में बनती हैं और फिर इन्हें आपस में जोड़कर बड़ी पापड़ियां बन जाती हैं। तैयार पापड़ी सूखी होती है और इसमें दर्द और खुजली नहीं होती है।

ज्यादातर ऐसे फंगल संक्रमण पहले दो से छह सप्ताह में दिखाई देते हैं।

क्रॅडल कॅप तैयार होने के क्या कारन होते हैं ? ( What are causes of cradle cap in hindi ?)

क्रैडलकैप बनने का सबसे महत्वपूर्ण कारण यह है कि मां के हार्मोन जन्म से पहले प्लेसेंटा के जरिए बच्चे के शरीर में प्रवेश करते हैं। ये हार्मोन खोपड़ी पर ग्रंथियों से बहुत अधिक तेल छोड़ते हैं, इसलिए तेल मृत त्वचा कोशिकाओं से चिपक जाता है और एक पीले रंग की परत बन जाती है।

टालू क्या होता हैं ? (What is fontanell in hindi?)

नवजात शिशु की खोपड़ी में 14 प्रकार की हड्डियाँ होती हैं।जब बच्चे का जन्म होता है, तो टालू उन हड्डियों को जोड़ने के लिए बनती है जो पूरी तरह से जुड़ी नहीं होती हैं। टालू एक प्रकार की मांसल मोटी झिल्ली होती है। 

सबसे खास बात यह है कि बच्चा मां के गर्भ से आसानी से निकल जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि टालू खोपड़ी की हड्डियों को फ्लेक्स करती है। बच्चे के सिर पर टालू चार जगहों पर होती है।

  •    सबसे बड़ा बच्चे के सिर के शीर्ष पर होता है जिसे फ्रंटल कहा जाता है।
  •   दूसरा को पीछे की ओर होता हैं उसे पोस्टरियर कहा जाता है।
  •    कान के ऊपरी हिस्से पर होता हैं उसे स्पिनायडल कहते हैं।
  •    जबड़े के जोड़ों के ऊपर के क्षेत्र को मॅस्टोइडल कहा जाता है। 

जैसे-जैसे बच्चा बढ़ता है, टालू हड्डियों में बदल जाती है। पीछे की हड्डी का टालू तीन महीने में, कान और जबड़े के पास टालू छे महीने मैं भरता है और सबसे बड़ा आगे का टालू 12 से 18 महीने में भरता है। टालू भरना एक प्राकृतिक प्रक्रिया है। बच्चे के शरीर में कैल्शियम और हार्मोन टालू की त्वचा को भर देते हैं।

क्रैडल कैप का इलाज क्या है? ( What is diagnosis of Cradle cap in hindi?)

क्रैडलकैप अपने आप कम हो जाता है। कभी-कभी इसे कम करने के लिए उपचार की आवश्यकता नहीं होती है लेकिन यदि बहुत अधिक क्रैडल कैप हो तो उपचार की आवश्यकता होती है।

क्रैडल कैप का इलाज निम्नलिखित तरीकों से किया जा सकता है।

  •     शैम्पू का इस्तेमाल- बच्चे के सिर के बालों को हफ्ते में तीन बार एंटी-फंगल शैम्पू से धोएं।
  •     पापड़ी को सिर की त्वचा से पूरी तरह हटाने की कोशिश न करें, अगर कोई हिस्सा है जिसे हटाया जा सकता है, तो उसे ब्रश से हटाया जा सकता है।
  •     बच्चे को नहलाने के बाद, पेट्रोलियम जेली या थोड़ी मात्रा में बेबी ऑयल टालू पर लगाएं। ज्यादा तेल न लगाएं क्योंकि इससे फंगल इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाएगा।
  •     डॉक्टर की सलाह पर ही स्टेरॉयड क्रीम लगाएं। यदि अच्छे से देखभाल की तो इसकी आवश्यकता नहीं पड़ती है।

क्रैडल कैप किन जटिलताओं का कारण बन सकता है? ( What are complications of cradle cap in hindi?)

क्रैडलकैप शायद ही कभी जटिलताओं का कारण बनता है।

  •     आसपास की त्वचा की लाल पड जाती हैं ।
  •     टालू की पापड़ी से शिशु को बहुत जलन होती है।
  •     फंगल इंफेक्शन मुंह में फैल जाता है।
  •     बच्चे को डायपर रैशेज होने लग जाती हैं।
  •     अगर बच्चे के मुंह में सफेद धब्बे दीखते हैं।
  •     अगर बच्चे के कान में रूसी है और बच्चे को बार-बार खुजली हो रही है।

कई बार फंगल इंफेक्शन के कारण भी बैक्टीरियल इंफेक्शन हो सकता है। उस जगह से रक्तस्राव हो सकता है यदि उपर में से कोई भी लक्षण दिखाई देता है, तो अपने बाल रोग विशेषज्ञ से परामर्श करना आवश्यक है।

निष्कर्ष

  • अंधविश्वास से दूर रहें।
  • अपने बच्चे की देखभाल करना आप पर निर्भर करता है इसलिए यह जांचना महत्वपूर्ण है कि दूसरों द्वारा दी गई सलाह सही है या नहीं।
  •  जबरन बनी हुई पापड़ी को हटाने की कोशिश न करें।
  • टालू पर ज्यादा तेल न लगाएं, यह किसी काम का नहीं है।

2 thoughts on “नवजात शिशु के सिर के ऊपर क्रैडल कैप |Cradle Cap in Hindi”

Leave a Comment